कानूनी जानकारी – मघ्यस्थता क्या है ?

   मध्यस्थता एक संवैधानिक प्रकिया है, जिसमे एक निष्पक्ष व तटस्थ मध्यस्थ विवादित पक्ष को समझौते तक पहुंचाने मे सुसाध्य बनाता है । मध्यस्थ समाधान हेतू वाध्य नही करता, बल्कि एक सहायक वातावरण का निर्माण करता है, जिसमें पक्षकार अपने समस्त विवादो की समस्या का समाधान कर सकते है ।
   मध्यस्थता विवाद समाधान हेतू एक प्रयास तथा परीक्षित वैकिल्पक पद्धति है ।दिल्ली, बैंगलौर, चेन्नईं तथा इलाहावाद मे इसकी महान सफलता प्रमाणित हो चुकी है । मध्यस्थता प्रकिया मे भागीदारी करने बाले वादीगण सिर्फ एक अर्थ मे इसका समर्थन करते है ।
मध्यस्था है:-
* एक संरचात्मक प्रक्रिया, जिसमे एक मध्यस्थ विशेष संचरण तथा वार्ता तकनीकी का प्रयोग करता है ।
* सुसाध्य पक्ष के विवाद मे समाधान की एक प्रक्रिया ।
* एक सुसाध्य प्रक्रिया जिसमे पक्षकार एक आपसी स्वीकार्य अनुबन्ध तक पहुचते है ।
मध्यस्थता बनाम विरोधी मुकद्दमेबाजी
* मध्यस्थता मे समय की हानी नही
* मध्यस्थता मे वित्तीय निवेश की आवश्यकता नही
* मध्यस्थता निरंतर कामकाज व वैयक्तिक रिश्तो को संरक्षित करता है ।
* मध्यस्थता विवादित पक्षो को लचीलापन, संयम और सहभागिता की अनुमति देता है 
* निर्णित मध्यस्थता के खिलाफ अपील व रिवीजन मान्य नही है ।
मध्यस्थता कौन कर सकता है ?
  कोई भी व्यक्ति जोकि सर्वोच्च न्यायालय की मिडिएशन एवम् कन्सीलिएशन प्रोजेक्ट कमेटी द्वारा निर्धारित 40 घण्टे का अपेक्षित प्रशिक्षण रखता हो, मध्यस्थ हो सकता है

2 Comments on “कानूनी जानकारी – मघ्यस्थता क्या है ?”

  1. तीसरा वयक्ती कोन होता है जो मधयसथता को सभाल लेता है उसकी जरूरत क्यो होती हैं

Leave a Reply