अब तीन कैश ट्रांजेक्शन के बाद देना होगा चार्ज, जानें किन बैंकों ने किया ऐलान

नयी दिल्ली : निजी क्षेत्र के तीन बैंकों के बाद अब सार्वजनिक क्षेत्र की एसबीआइ भी एक माह में तीन बार से ज्यादा कैश ट्रांजेक्शन पर सर्विस चार्ज वसूलेगी. साथ ही बैंक ने तय किया है कि वह व्यावसायिक प्रतिनिधि और पीओएस से नकदी निकालने पर निर्धारित सीमा के बाद शुल्क लेगा. होम ब्रांच के बचत खाता के एटीएम से ग्राहक माह में तीन बार जो कैश ट्रांजेक्शन करेंगे, वह फ्री होगा. इससे ज्यादा हर ट्रांजेक्शन पर 50 रुपये सर्विस चार्ज लगेंगे

.एचडीएफसी बैंक ने एक मार्च से चार बार से ज्यादा जमा-निकासी पर 150 रुपये सर्विस चार्ज लेना शुरू कर दिया है. एक महीने में एचडीएफसी की होम ब्रांच से दो लाख तक और नॉन होम ब्रांच से रोज 25000 रुपये तक निकासी की जा सकती है.इस सीमा के बाद हर हजार रुपये पर पांच रुपये या न्यूनतम चार्ज 150 रुपये देने होंगे. हालांकि बुजुर्गों व बच्चों के खातों पर किसी तरह का चार्ज नहीं लगाया गया है. जमा पर भी कोई शुल्क नहीं लगेगा. एक्सिस बैंक के ग्राहक होम ब्रांच से एक महीने में एक लाख रुपये तक जमा और निकासी कर सकते हैं. आइसीआइसीआइ बैंक में भी होम ब्रांच में महीने की सीमा एक लाख रखी गयी है.केंद्र ने बैंकों से कहा है कि अपने सभी ग्राहकों को 31 मार्च तक मोबाइल बैंकिंग सुविधा उपलब्ध कराएं. सभी खातों के लिए 31 मार्च से इंटरनेट बैंकिंग शुरू कराने की व्यवस्था करें. खातों को आधार कार्ड से लिंक करना पहले ही अनिवार्य कर दिया गया है. आइटी सचिव अरुणा सुंदरराजन ने कहा कि यूपीआइ या भीम एप का इस्तेमाल करनेवाले स्वत: ही मोबाइल बैंकिंग में सक्षम हो जाने चाहिए.

Leave a Reply