कानून व्यवस्था की हुई समीक्षा बैठक

रूद्रपुर – आज जिलाधिकारी डाॅ0 पंकज कुमार पाण्डेय की
अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में मासिक स्टाफ बैठक आहूत की गई। कानून
व्यवस्था की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि कानून व्यवस्था को
सुदृढ़ बनाये रखने के लिए पुलिस अधिकारियों के साथ-साथ सभी उपजिलाधिकारियों
को भी विषेश ध्यान देने की आवष्यकता है। उन्होंने कहा यदि कहीं पर कोई
घटना घटित होती है तो उसे हल्के में न ले, शीघ्र कार्यवाही करते हुए घटना
का निस्तारण करें। उन्होंने कहा जनपद में चोरी, जुआ व महिला अपराधों को
रोकने के लिए विषेश सतर्कता बरती जाए, साथ ही अपराधों के कारणों का भी पता
लगाया जाये। उन्होंने कहा सभी उपजिलाधिकारी गुण्डा एक्ट के केसों पर सख्त
कार्यवाही करें। जिलाधिकारी ने कहा जिन लोगों से शान्ति भंग होने की आशंका
है उनके शस्त्र लाइसेन्स निरस्त करने हेतु जिलाधिकारी कार्यालय को पत्र
लिखा जाय।
           जिलाधिकारी ने सभी तहसीलदारों को निर्देश
दिए कि दाखिल खारिज का कार्य समय पर पूर्ण करने के साथ ही हर 15 दिन में
दाखिल खारिज से सम्बन्धित रिपोर्ट अपर जिलाधिकारी को प्रस्तुत करें।
उन्होंने अपर जिलाधिकारी को वसूली के कार्यों की व्यवस्था करने के भी
निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि स्थानान्तरित हुए व सेवानिवृत्त हुए
अधिकारी/कर्मचारी जो अभी भी सरकारी आवासों मे रह रहें है तथा उन्हें  06
माह से अधिक का समय हो गया है उनसे शीघ्र सरकारी आवास खाली करवा लिए जाये।
जिलाधिकारी ने सभी उपजिलाधिकारियों को लम्बित वादों का निस्तारण षासन से
प्राप्त सन्दर्भों, आयुक्त महोदय से प्राप्त सन्दर्भों का निस्तारण षीघ्र
करने के निर्देश दिए। चकबन्दी विभाग की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने
बन्दोंबस्त अधिकारी चकबन्दी को किच्छा के बडिया गांव व काषीपुर के चार
गांवों की चकबन्दी का कार्य 2 माह में पूर्ण करने के निर्देश दिए। श्रम
विभाग की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने श्रमिकों का शोशण रोकने व
श्रमिकों को उनके संस्थान मे सभी सुविधाएं दिलवाने के उद्देश्य से सहायक
श्रमायुक्त को प्रत्येक माह मे 20 फैक्ट्रियों का निरीक्षण करने के निर्देश
दिए। जिलाधिकारी ने एआरटीओ नन्द किशोर को निर्देश दिए  कि ओवर लोडिगं को
रोकने के लिए समय समय पर अभियान चलाकर कार्य किया जाये। साथ ही खनन कार्यों
में लगे हुए वाहनों की भी समय- समय पर फिटनेस चैक की जाये। मनोरंजन विभाग
की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि समय- समय पर केबिल कनेक्षनों की
चैकिंग करें ताकि विभागीय राजस्व बढाया जा सके। जनसंवाद व समाधान योजना की
समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने सभी उपजिलाधिकारी व तहसीलदारों को निर्देश
दिए कि जनसंवाद व समाधान योजना के अन्तर्गत जो भी षिकायतें दर्ज हो रही हैं
उनका समाधान शीघ्र किया जाय साथ ही जिस षिकायत कर्ता की शिकायत का
निस्तारण किया जाता है उससे दूरभाष पर भी बात कर ली जाये। उन्होंने कहा
तहसील स्तर से जो भी पत्र आ रहे हैं उन्हें मेल पर भी उपलब्ध करायें।
जिलाधिकारी ने कहा उपजिलाधिकारी स्तर से जिन षस्त्र लाइसेंसों का नवीनीकरण
किया जाता है उसकी सूचना जनपद में समय पर आनी चाहिए।
बैठक
में एडीएम राजस्व आषीश श्रीवास्तव व एडीएम नजूल आशीष भटगई,उप जिलाधिकारी
विनीत कुमार,विजय कुमार जोगडण्डे,चन्द्र सिंह इमलाल,भगत सिंह फोनिया,तीरथ
पाल,डीजी राजस्व स्वतंत्र बहादुर सिंह,वरिश्ठ कोशाधिकारी तृप्ति
श्रीवास्तव,सहायक आयुक्त मनोरंजन कर सुरेष चन्द्र, एआरटीओ नन्द
किशोर,तहसीलदार संजय कुमार,एससी मुरारी,आरसी गौतम सहित अनेक विभागो के
अधिकारी उपस्थित थे। 
इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

Leave a Reply