वर्ड फ्लू के रोकथाम के लिये पूरे प्रयास किये जाय

रूद्रपुर –   जनपद से लगे पडोसी राज्य उत्तर प्रदेश से
बर्डफ्लू न फैले इसलिए एतिहात के तौर पर निगरानी रखे जाने एवं सतर्कता
बरतने हेतु स्वास्थ्य विभाग, पशु  विभाग, वन विभाग, खाद्य विभाग, पंचायती
राज विभाग, आपदा प्रबन्धन विभाग सहित विभिन्न विभागों के अधिकारियो के साथ
अपर जिलाधिकारी (राजस्व) डा0 आशीष  श्रीवास्तव ने कलेक्ट्रट सभागार  में आज
एक बैठक ली। 
 
           समाचार पत्रों व कतिपय मीडिया के माध्यम
से हमारे पडोसी राज्य उत्तर प्रदेश में सम्भावित बर्डफ्लू होने के समाचार
प्रकाशित हुए हैं। बर्डफ्लू से सुरक्षा के मददेनजर एडीएम ने स्वाथ्य विभाग
के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वर्ड फ्लू के रोकथाम के लिये पूरे प्रयास
किये जाय तथा टीम गठित कर उन्हे उचित ट्रेनिंग दी जाये। उन्होने कहा कि
बीमारी से बचने के लिये जागरूकता व रोकथाम बहुत आवष्यक है, लिहाजा जनता को
जागरूक करने हेतु वर्डफ्लू के लक्षण व रोक थाम के उपायों का व्यापक
प्रचार-प्रसार किया जाये। उन्होने स्वाथ्य विभाग व पषु पालन विभाग के
अधिकारियों को निर्देश दिये कि  वर्डफ्लू के विशय में जनता को जागरूक करने
हेतु सार्वजनिक स्थानों, रेलवे स्टेषनों, बस अड्डों आदि जगहो पर
पोस्टर/पम्पलेट चस्पा किये किये जाये तथा प्रचार वाहनों व लोकल टीवी चैनलों
के माध्यम से भी लोगों को जागरूक किया जाय। एडीएम ने स्वाथ्य विभाग के
अधिकारियों से कहा कि आइसोलेशन वार्ड बच्चा वार्ड तथा सार्वजनिक स्थल से
उचित दूरी पर बनाया जाय। उन्होने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा0 आर चन्द्र
को निर्देष दिये कि विभिन्न कुक्कुट/पोल्ट्री फार्मो से क्षेत्रवार किसी
भी प्रकार के पक्षियों कि सामूहिक/आकस्मिक मृत्यु की रिर्पोटिगं दैनिक आधार
पर प्राप्त की जाय तथा रिपोर्ट की एक प्रति जिलाधिकारी को भी भेजी जाये।
इसके लिए एक फोन नम्बर जारी किया जाय ताकि किसी पक्षी कि अस्वाभाविक मृत्यु
होने पर किसी अन्य व्यक्ति द्वारा भी घटना की जानकारी हासिल की जा सके।
उन्होेने खाद्य विभाग के अधिकारी को निर्देष दिये कि बाजार में बिकने वाले
पौल्ट्री उत्पादों की गुणवत्ता पर निगरानी रखने के लिए छापामार अभियान
चलाया जाये।
            सीएमओ डा0 एचके जोषी ने बर्डफ्लू के
लक्षण व रोकथाम के उपायों पर विस्तार से प्रकाष डाला। उन्होंने बताया कि
बर्डफ्लू रोग मुख्य रुप से मुर्गियों से फैलता है। साफ-सफाई व सतर्कता रखने
पर इस रोग से बचा जा सकता हैै।
            बैठक
में डिप्टी सीएमओ डा0 बसंत, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एस.एस दुग्ताल,
प्रमुख अधीक्षक डा0 हरीश लाल, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा0 अविनास खन्ना,
आईडीएसपी डा0 षिवी अग्रवाल, जिला मलेरिया अधिकारी बीसी जोषी, जिला आपदा
प्रबन्धन अधिकारी डा0 अनिल शर्मा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित
थे।

इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

Leave a Reply