Paytm ने दी चेतावनी ! अकाउंट से उड़ जायंगे सारे पैसे ! ये ऐप मत करना इस्तेमाल l

Paytm KYC Online Fraud
Paytm की चेतावनी – Paytm KYC Online Fraud

अगर आप मोबाइल पर Paytm वेलेट यूज़ करते हैं और अपने पैसे सुरक्षित रखना चाहते हैं तो Paytm की इस चेतावनी को नजरंदाज ना करें l Paytm ने मोबाइल इस्तेमाल करने वालो को चेतावनी जारी करते हुए कहा है की अपने PAYTM अकाउंट की KYC कराते समय सतर्क रहें l क्योंकि बहुत सारे उपभोक्ता केवाइसी के लिए रिमोट एप्लीकेशन जैसे  ऐनीडेस्क या क्विक सपॉर्ट जैसे ऐप का उपयोग कर रहे हैं l Paytm ने नोटिफिकेशन ज़ारी करते हुए सलाह दी है की KYC करते समय इन एप को ना डाउनलोड करें । नोटिफिकेशन में कहा गया है कि इन ऐप्स के जरिए जालसाज उपभोक्ता के अकाउंट से सारे पैसों की चोरी कर सकते हैं।

बैंकों ने भी दी थी चेतावनी

कुछ दिन पहले बहुत सारे बैंकों ने भी इन रिमोट ऐप जैसे ऐनीडेस्क और टीमव्यूअर आदि को इस्तेमाल न करने की चेतावनी दी थी l क्योंकि पिछले कुछ महीनों में इन एप से होने वाली धोखाधड़ी के काफी मामले सामने आए हैं। देश के सबसे बड़े रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने भी चेतावनी जारी कर लोगों को इन ऐप्स से सावधान रहने को कहा था। देश के दुसरे बड़े बैंकों हुए  जैसे एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और ऐक्सिस बैंक ने भी ग्राहकों को इन ऐप्स को डाउनलोड ना करने की सलाह दी थी।

क्या होते हैं रिमोट एप ?

ये रिमोट ऐप्स ऐनीडेस्क और टीमव्यूअर आदि ना तो कोई मलीशस (वायरस) हैं और ना हीं ये उपभोक्ता की डीटेल को लीक करते हैं। बल्कि आईटी सेक्टर के लिए ये दोनों ऐप काफी काम के होते हैं। इन एप के जरिए टेक प्रफेशनल बहुत सारे कामों के लिए कहीं भी बैठकर इंटरनेट के जरिए दूसरी जगह पर मौजूद अन्य डिवाइस को दूर से ही चला सकते हैं। आप इन रिमोट ऐप्स को आसान भाषा में स्क्रीन शेयरिंग ऐप भी कह सकते है।

जालसाज कैसे करते हैं रिमोट एप का गलत इस्तेमाल

धोखाधड़ी करने वाले लोग अपने शिकार को एक फर्जी बैंक एग्जिक्यूटिव बनकर फोन करते हैं। फोन पर बातचीत के दौरान यह ग्राहक को बैंक अकाउंट से जुड़ी किसी दिक्कत के बारे में बताते हैं। और कहते हैं कि अगर आपने उनके द्वारा बताए गए स्टेप्स को फॉलो ना किया तो आपकी नेट बैंकिंग की सुविधा ब्लॉक की जा सकती है। ब्लॉक होने ने बैंक की  सारी जानकारी बता देते हैं l

रिमोट ऐप को इंस्टॉल करने को कहते है जालसाज़

जब ग्राहक जालसाज़ के चुंगुल में फंस जाता है तो ये ठग रिमोट ऐप (ऐनी डेस्क या टीमव्यूअर) को मोबाइल में इंस्टॉल करने को मजबूर करते हैं । उपभोक्ता के मोबाइल में ऐप के इंस्टॉल होने के बाद ये रिमोट एप के वेरिफिकेशन के लिए आए गुप्त कोड के अंक  की मांग करते हैं। यही वह पासवर्ड या कोड है जिसके ज़रिये ये ठग अपने शिकार के मोबाइल या कंप्यूटर का फुल कण्ट्रोल पा जाते हैं। और इसके बाद यह जालसाज़ यूजर के मोबाइल डिवाइस की स्क्रीन को लगातार मॉनिटर करते रहते हैं ।

चुरा लेते हैं यूजर की सारी गुप्त जानकारी

एक बार स्क्रीन कंट्रोल करने के बाद यह चोर आपके मोबाइल की हर ऐक्टिविटी को अपने पास रिकॉर्ड कर लेते हैं। इन ऐप को डाउनलोड करने के बाद जब भी ग्राहक मोबाइल बैंकिंग, पेटीएम, गूगल पे, फोनपे  या UPI से पेमेंट करते हैं तो उनके लॉगइन डीटेल को ये चोर बड़ी आसानी के चुरा लेते हैं। और सारे पैसे उड़ा लेते हैं l

इन जालसाजों के कैसे बचे

अगर आप भी इन ठगों से बचना चाहते हैं तो आपको बड़ी सावधानी से इन रिमोट एप का इस्तेमाल करना होगा l आपको बहुत जरुरी पड़ने पर ही रिमोट डेस्कटॉप ऐप को डाउनलोड और इंस्टॉल करना चाहिए l और जब तक आप इन एप्स के काम करने के तरीके को सही ढंड से ना समझ लें तब तक इन्हें उपयोग ना करें । और हमेशा याद रखें कि कभी भी कोई बैंक या पेमेंट वालेट अपने ग्राहक को फोन पर इस प्रकार की ऐप को डाउनलोड करने को नहीं कहता है।

अगर आप मोबाइल को सावधानी से उपयोग करेंगे और किसी भी फालतू एप का इस्तेमाल नहीं करेंगे तो आप हमेशा सुरक्षित रहेंगे l अधिक जानकारी के लिए Paytm कस्टमर केयर नंबर  पर बात करें  –

  • पेटीएम बैंक, वॉलेट और पेमेंट्स हेल्पलाइन 0120-4456-456
  • पेटीएम मूवीज़ एंड इवेंट्स टिकट हेल्पलाइन 0120-4728-728
  • पेटीएम मॉल शॉपिंग ऑर्डर हेल्पलाइन 0120-4606060
  • पेटीएम यात्रा टिकट और विदेशी मुद्रा हेल्पलाइन 0120-4880-880

यह भी पढ़ें –

Leave a Reply